पिछले दिनों मैंने विदेशों में रहकर हिंदी के प्रचार-प्रसार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले प्रमुख व्यक्तियों से आपका परिचय कराया . आज इस श्रृंखला के अंतर्गत हम आपका परिचय करवा रहे हैं अनिल जनविजय जी से -

28 जुलाई 1957  को उत्तर प्रदेश के बरेली में जन्में श्री अनिल जन्मेजय कविता कोष के संपादक है .ये हिन्दी के प्रमुख कवि लेखक और रूसी से हिन्दी अनुवादक हैं। उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से बी.कॉम और मॉस्को स्थित गोर्की साहित्य संस्थान से सृजनात्मक साहित्य विषय में एम. ए.किया। मॉस्को विश्वविद्यालय में हिंदी साहित्य के अध्यापन का कार्य कर रहे हैं।

इनकी प्रमुख कृतियाँ है -कविता नहीं है यह (1982), माँ, बापू कब आएंगे (1990), राम जी भला करें (2004). इन्होने रूसी भाषा से बहुत से कवियों का हिन्दी में अनुवाद और हिन्दी से कबीर की कविताओं का रूसी भाषा में अनुवाद किया है । 

हमें गर्व है हिंदी के इस प्रहरी पर

() प्रस्तुति : माला ( ब्लॉग : मेरा भारत महान )

1 comments:

  1. उम्दा प्रस्तुती ,आपको अनेक शुभकामनायें /

    ReplyDelete

 
Top