कहा जाता है कि यदि चाहत सबल हो तो लक्ष्य मुश्किल नहीं होता । जब मैंने परिकल्पना ब्लॉग उत्सव की उद्घोषणा की थी तब शायद मुझे भी यकीन नहीं था कि यह आयोजन अपने मुकाम को प्राप्त करेगा , क्योंकि यह धुंध में उगे लक्ष्य रुपी पेंड की मानिंद अस्पष्ट दिखाई दे रहा था । उस पेंड पर बैठी चिड़िया की आंख देखना तो दूर वह चिड़िया भी मुझे दिखाई नहीं दे रही थी । खैर मेल के माध्यम से प्राप्त आपके बहुमूल्य सुझाव और काफी संख्या में विभिन्न विषयों पर प्राप्त रचनाओं से मेरा मनोबल बढ़ा ....सबसे आश्चर्य की बात तो यह है कि इस उत्सव के परिप्रेक्ष्य में कई वरिष्ठ सृजनकर्मियों की शुभकामनाएं भी प्राप्त हुई है ।
प्रिंट मीडिया पर ब्लॉगचर्चा से ज्ञात हुआ है कि परिकल्पना ब्लॉग उत्सव की चर्चा 28 मार्च 2010 को द संडे पोस्ट के साप्ताहिक स्तंभ 'ब्लॉगनामा' में भी हुई है जो हमारे मनोबल को उंचा रखने के लिए काफी है । इस चर्चा के लिए प्रतिभा कुशवाहा जी का आभार ।
अब आईये सीधे-सीधे चलते हैं मुख्य विषय की ओर । जी हाँ ! मिल गया है परिकल्पना ब्लॉग उत्सव को एक प्रायोजक । प्रायोजक है लोकसंघर्ष ( त्रैमासिक हिंदी पत्रिका ) । यह पत्रिका उत्तर प्रदेश के बाराबंकी शहर से प्रकाशित होती है । लोकसंघर्ष पत्रिका के मुख्य सलाहकार एडवोकेट मुहम्मद शोएब और लखनऊ ब्लोगर असोशिएशन के महासचिव श्री जाकिर अली रजनीश की उपस्थिति में हुई बैठक के दौरान पत्रिका के प्रवंध संपादक एडवोकेट रणधीर सिंह 'सुमन' के साथ हुए समझौते के मुताबिक़ -
() लोक संघर्ष पत्रिका परिकल्पना ब्लॉग उत्सव -२०१० के समापन के पश्चात पूरे परिदृश्य को एक विशेषांक के रूप में प्रकाशित करेगी ।
() लोक संघर्ष पत्रिका परिकल्पना ब्लॉग उत्सव-२०१० में शामिल समस्त चिट्ठाकारों को आजीवन सदस्यता मुफ्त देगी और उनके पते पर पत्रिका का प्रत्येक अंक प्रेषित करेगी ।
() लोक संघर्ष पत्रिका अपने आगामी अंक में परिकल्पना ब्लॉग विश्लेषण-२००९ के समस्त २५ खण्डों को संक्षिप्तता के साथ आलेख के रूप में प्रकाशित करेगी ।
() लोक संघर्ष पत्रिका के प्रवंध संपादक के सुझाव के आधार पर इस उत्सव में शामिल होने की शर्त १०० पोस्ट की प्रतिबद्धता समाप्त कर दी गयी है । अब इसमें सभी चिट्ठाकार चाहे वह नए हो अथवा पुराने अपने रचनात्मक सहयोग के साथ शामिल हो सकते हैं
() () ()

7 comments:

  1. जानकारी का आभार ।

    ReplyDelete
  2. बहुत बहुत आभार

    ReplyDelete
  3. बहुत आभार जानकारी के लिए.

    ReplyDelete
  4. बहुत बधाई .. और शुभकामनाएं भी !!

    ReplyDelete
  5. अति उत्तम....!!!!

    ReplyDelete
  6. इस नए चिट्ठे के साथ हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  7. कली बेंच देगें चमन बेंच देगें,

    धरा बेंच देगें गगन बेंच देगें,

    कलम के पुजारी अगर सो गये तो

    ये धन के पुजारी वतन बेंच देगें।

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . नीचे लिंक दिए गये हैं . http://www.janokti.com/ , साथ हीं जनोक्ति द्वारा संचालित एग्रीगेटर " ब्लॉग समाचार " http://janokti.feedcluster.com/ से भी अपने ब्लॉग को अवश्य जोड़ें .

    ReplyDelete

 
Top